विस्मयादिबोधक किसे कहते है ? ये कितने प्रकारका होता है।

305

वक्ताके मनका हर्ष,विस्मात्,शोक,घृणा,आश्चार्य, प्रशंसा इत्यादि जैसे मनोभाव वा दशा सम्झने वाले शब्दको विस्मयादिबोधक कहते है। विस्मयादिबोधक चिह्न (!) वाक्यके आगे या पिछे आते है।
जैसे:- हरे! शिव, मरे नि ऐय्या!

शोकवाचक – कठै! विच।रा!

आश्चर्यवाचक – ओहो !, आम्मै!

हर्षवाचक – आहा!, धन्य!, जय!

तिरस्कारवाचक – छा!, धत! धिकार!

प्रशंसावाचक – वाह!, स्याबस!, क्याबात्!

विस्मृतिवाचक – ज्या!, ए!

सम्बोधनवाचक ए!, ओ!

जैसे :-
= ओहो ! सरिता त सांसद बन गई।

= आहा! सूर्योदयका दृश्य कितना अच्छा
है।

= वाह! भवानीका गाया हुवा गीत कितना
अच्छा है ।

कुछ विस्मयादिबोधक शब्दें : आहा, वाह, स्याबस, धन्य, जय, आहा, धत्तेरिका,हाय,हरे, आना, आते,
शिव,हा हा,ही ही, ए/ऐ औ,यहाँ,से इत्यादि।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here