Surdas ka jevan parichay hindi me: asani se yad kren

Posted Leave a commentPosted in जीवन परिचय

सूरदास हिन्दी साहित्याकाश के सूर्य हैं। मध्यकालीन वैष्णव भक्त कवियों में सूरदास का स्थान शीर्ष पर है। जयदेव, चण्डीदास, विद्यापति और नामदेव की सरस वाग्धारा के रुप में भक्ति – श्रृंगार की जो मंदाकिनी विशिष्ट सीमा – कूलों में प्रवाहित होती चली आ रही थी, उसे सूरदास ने जनभाषा के व्यापक धरातल पर अवतरित करके […]