हिन्दी व्याकरण

सम्बन्ध कारक (Possessive Case)

सम्बन्ध कारक (Possessive Case) :-

सम्बन्ध कारक उसे कहते है जो एक दुसरे के प्रति भाव (maya, mamta) व्यक्त करता है।

जैसे-

यह मोहन की पुस्तक है।

(This is mohan’s book.)

यह सीता की फ्रॉक है।

(This is Sita’s frock.)

यह लड़कों का स्कूल है।

(This is a boy’s school.)

यह रामदास का कोट है।

(This is Ram Das coat.)

यह मकान का दरवाजा है।

(This is the door of the house.)

क्या यह तुम्हारी कलम है ?

(Is it your pen.)

नहीं, यह मेरी नहीं है।

(No, it is not mine.)

यह अनिल की है।

(It is Anil’s.)

यह थैला किसका है।
Whose bag is it ?

यह उसका है।

(It is his.)

ध्यान दीजिए –

1) यदि किसी जीवित प्राणी का सम्बन्ध प्रकट किया जाय, और वह एकवचन हो तो उसके बाद ‘s’ लगा दिया जाता है, जैसे वाक्य 1,2, तथा 7 में। इसे Apostrophe’s कहते हैं।

2) यदि जीवित प्राणी अनेक हों तो s के बाद
Apostrophe (‘) लगाया जाता है, जैसे – वाक्य 3 में।

3) यदि किसी संज्ञा के अन्त में s आता हो तो सिर्फ Apostrophe (‘) लगा देते हैं, आगे s नहीं लिखते, जैसे- वाक्य 4 में।

4) निर्जीव वस्तुओं में s नहीं लगता। उसमें of लगाकर बात बताई जाती है, जैसे- वाक्य 5 में।

5) मेरा (My), हमारा (our), तुम्हारा (your), उसका (his), उस स्त्री का (her), उनका (their), mine, ours, yours, hers, theirs, पुरुषवाचक सर्वनाम (Personal Pronouns) के Possessive Case हैं। mine, ours, आदि शब्द जोर देने के लिए आते हैं। उनके बाद Noun नहीं आता। वे वाक्य के अन्त में आते हैं।

Hints – गुड़िया = doll, किसान = farmer, परिवार = family, रेलवे स्टेशन = Railway-station, सुन्दर = beautiful, लड़कियों का स्कूल girls school, लड़का (बेटा) = son.

Leave a Reply

Your email address will not be published.